कलात्मक बिग बैंग | बिग बैंग एक सिद्धांत है, यह अवलोकन योग्य ब्रह्मांड का एक ब्रह्मांडीय मॉडल है।
चित्र 1: कलात्मक बिग बैंग | बिग बैंग एक सिद्धांत है, यह अपने बाद के बड़े पैमाने पर विकास के माध्यम से सबसे पहले ज्ञात अवधियों से अवलोकन योग्य ब्रह्मांड का एक ब्रह्मांडीय मॉडल है।

मानव जाती हमेशा से ही ब्रह्मांड को पूरी तरह से जानने के लिए अपना पूरा जोर लगाता आ रहा है। जहां हम कुछ प्रशन सुलझा लेते हैं, वहीं कुछ प्रशनों में उलझ जाते हैं। नीचे कुछ ऐसे ही ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य हैं जिनके उत्तर हम अभी तक नहीं जान पाएं हैं।

1Big bang के पहले क्या हुआ था?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में सबसे पहला रहस्य है – Big bang के पहले क्या हुआ था? Big bang के कई सिद्धांत हैं, कुछ सिद्धांतों में कहा गया कि, हो सकता है Big Bang से पहले केवल समय था और जो अनंत था। कुछ सोचते हैं कि, Big bang से पहले ब्रह्माण्ड का कोई अस्तित्व ही नहीं था। कुछ अन्य यह भी सोचते हैं कि हमारा ब्रह्मांड समानांतर ब्रह्मांड का एक हिस्सा हो सकता है। वास्तव में उस विशाल विस्फोट से पहले क्या चल रहा था यह अभी भी हम स्पष्ट रूप से नहीं जानते।

2क्या हम ब्रह्मांड में अकेले हैं?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में दूसरा रहस्य है – क्या हम ब्रह्मांड में अकेले हैं? हमारे MILKEY WAY आकाशगंगा में 5,00,00,00,00,000 से अधिक सितारे और 1,00,00,00,00,000 से अधिक आकाशगंगा हैं। लेकिन क्या हम ही हैं? ब्रह्माण्ड के दूसरे प्लैनेट्स में किस तरह का माहौल है? और वे किस तरह के जीवन की मेजबानी करते हैं? और अगर हम अकेले हैं तो यह निश्चित रूप से अंतरिक्ष की एक भयानक बर्बादी की तरह लगता है।

इस विषय पर अधिक पढ़ें – क्या हम ब्रह्मांड में अकेले हैं?

3क्या आपको लगता है कि ब्रह्मांड कानूनों द्वारा शासित है?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में तीसरा रहस्य है – क्या आपको लगता है कि ब्रह्मांड कानूनों द्वारा शासित है? Relativity की तरह, जो इंटरेक्शन की बुनियादी ताकतों में से एक, ग्रेविटी, मानक मॉडल का कानून को परिभाषित करता है। गणितीय समरूपता के अनुसार, क्वांटम यांत्रिकी के कानून की तरह कणों के मौलिक बल होते हैं जो व्यवहार और अंतःक्रियाओं की व्याख्या करते हैं। यह हर चीज का सिद्धांत हो सकता है। हम स्वाभाविक रूप से सोचते हैं कि भौतिकी के कानून घटनाओं को निर्धारित करते हैं। लेकिन क्या हो अगर घटना करने वाले ही कानून को तय कर रहे हों? क्या समय इस ब्रह्मांड का एकमात्र महान वास्तुकार है। हम नहीं जानतें।

इस विषय पर अधिक पढ़ें – ब्रह्मांड कानूनों द्वारा शासित है?

4पृथ्वी के अंदर गहराई में क्या-क्या रहस्य छिपा है?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में चौथा रहस्य है – पृथ्वी के अंदर गहराई में क्या-क्या छिपा है? हम जिस अधिकतम गहराई तक पहुंचने में सफल रहे हैं वह 12 KM कोला, रूस में था। 6370 KM की गहराई पर पृथ्वी का सबसे रहस्यमयी स्थान है। और पृथ्वी का आंतरिक कोर जो अभी भी वैज्ञानिकों को हैरान करता है कि यह इतनी ऊर्जा कैसे पैदा और संभाल सकती हैं।

5जीवन कैसे दिखाई दिया?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में पांचवां रहस्य है – जीवन कैसे दिखाई दिया? इसके दो मुख्य सिद्धांत हैं।

Abiogenesis –

Abiogenesis का अर्थ है कि पृथ्वी के कुछ प्राइमरी सूप्स में जीवन का निर्माण हुआ होगा।

Advertisement, continue reading

Panspermia –

Panspermia का अर्थ है कि जीवन का निर्माण अंतरिक्ष से पृथ्वी पर आने वाले क्षुद्रग्रहों(asteroids) से हुआ होगा।

6पहला आदमी कौन था?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में छठा रहस्य है – पहला आदमी कौन था? हमें अपनी उत्पत्ति के बारे में अधिक जानकारी नहीं है। लेकिन इतिहास से कुछ सुराग मिले। लेकिन हमारे इतिहास में अभी भी बहुत सारे अंतराल हैं और हमें अभी भी नहीं पता की हम कहाँ से पृथ्वी पर आएं हैं।

7समय या पोषण?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में सातवा रहस्य है – समय या पोषण? क्या आपने कभी सोचा कि कुछ जानवर जन्म के समय कैसे खड़े हो सकते हैं। जब वे बीमार पड़ते हैं तो वे इलाज के लिए उपयुक्त पौधे खाते हैं। वे विस्तृत घोंसले भी बना सकते हैं। जब वे खतरे में होते हैं तो वे वहां सामूहिक रणनीतियां विकसित करते हैं। ये सब कैसे होता है? 

8शरीर पर मन की शक्ति क्या है?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में अठवा रहस्य है – शरीर पर मन की शक्ति क्या है? यह सिद्ध है कि ध्यान हमारे शरीर को विभिन्न रोगों से ठीक कर सकता है। यह अक्सर कहा जाता है कि हम अपने मस्तिष्क का केवल 10% उपयोग करते हैं। तो शेष 90% हमें क्या करने की अनुमति देगा? यह हम नहीं जानते। और अगर हम अपने मष्तिष्क का 90% उपयोग कर पाएं तो क्या होगा।

9चेतना क्या है?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में नौवा रहस्य है – चेतना क्या है? जैसा कि Descartes ने कहा कि, “मुझे लगता है, इसलिए मैं हूं”। लेकिन क्या चेतना को समझाना काफी है? मनुष्य दुनिया और खुद पर एक व्यक्तिपरक और आंतरिक रूप देखने में सक्षम हैं।

10भाषा कैसे प्रकट हुई?

ब्रह्मांड के अनसुलझे रहस्य में दसवा रहस्य है – भाषा कैसे प्रकट हुई? हम नियमित रूप से अन्य प्रजातियों के बीच संचार की नई जटिल प्रणालियों की खोज करते हैं। लेकिन भाषा के अलावा, क्या इंसानों को खास बनाता है? ज्ञान के बिना विचारों की कोई बहस नहीं होगी कोई रचना नहीं। तो क्या हमारी बुद्धिमत्ता ने हमें बोलने की अनुमति दी है? या क्या यह बोलने की हमारी क्षमता है कि उत्तरोत्तर हमें हमारी बुद्धिमत्ता दी?

11निष्कर्ष

हम में से कुछ सोचते हैं कि हम विकास के चरम पर हैं, लेकिन हम तो अभी शुरुआती दौर में हैं। जहाँ बहुत कुछ है जानने को बहुत कुछ है बनाने को। मानव के अंतिम सामान्य पूर्वजों से आधुनिक मानव विकास कई रूपात्मक, विकासात्मक, शारीरिक और व्यवहार परिवर्तनों की विशेषता है। इसलिए मानव हमेशा इन सवालों को खोजता रहेगा वह जरूर एक दिन इनके उत्तर भी प्राप्त कर लेगा। इस प्रकार ब्रह्मांड के ये अनसुलझे रहस्य हमेशा हमें जिज्ञासु रखेगा।


तथ्यों की जांच: हम सटीकता और निष्पक्षता के लिए निरंतर प्रयास करते हैं। लेकिन अगर आपको कुछ ऐसा दिखाई देता है जो सही नहीं है, तो कृपया हमसे संपर्क करें

Advertisement, continue reading

हमारा समर्थन करें: यथार्थ बहुभाषी कहानियों को दुनिया तक पहुंचाने में हमारी मदद करें। एक छोटा सा आर्थिक योगदान देकर अनरिवील्ड फाइल्स का समर्थन करें। आप PAY NOW लिंक पर क्लिक करके तुरन्त योगदान कर सकते हैं या सदस्यता SUBSCRIBE कर सकते हैं।

Mithun Sarkar वैज्ञानिकों और लेखकों के बारे में आत्मकथाएँ लिखते हैं। उन्हें विज्ञान और तकनीक बहुत पसंद है। उन्हें विज्ञान लेख लिखने के लिए सबसे ज्यादा जाना जाता है, वे व्यक्तिगत वित्त से लेकर खगोल विज्ञान तक के विषयों पर भी लिखते हैं।

Leave a reply

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें