Khmer Empire Lost City Of Mahendraparvata In Hindi
महेंद्रपर्वत का हवाई दृश्य। (पुरातत्व विकास फाउंडेशन)

प्राचीन खमेर साम्राज्य एक शक्तिशाली और प्रभावशाली सभ्यता थी जिसने कभी दक्षिणपूर्व एशिया के अधिकांश हिस्सों पर शासन किया था। इसकी राजधानी, अंगकोर, दस लाख से अधिक लोगों का घर था और अपने चरम पर दुनिया के सबसे बड़े शहरों में से एक था। हालाँकि, कई महान सभ्यताओं के साथ, खमेर साम्राज्य का अंततः पतन हो गया, और इसके एक बार के महान शहर उम्र के लिए खो गए। इन खोए हुए शहरों में से एक, जिसे महेंद्रपर्वत के नाम से जाना जाता है, हाल ही में पुरातत्वविदों द्वारा फिर से खोजा गया है। इस लेख में, हम खमेर साम्राज्य के इतिहास, महेंद्रपर्वत की खोज और इस आकर्षक सभ्यता के बारे में हमें क्या सिखा सकते हैं, इसकी खोज करेंगे।

खमेर साम्राज्य का इतिहास

खमेर साम्राज्य की स्थापना 9वीं शताब्दी में जयवर्मन द्वितीय द्वारा की गई थी, जिन्होंने अपने शासन के तहत असमान खमेर जनजातियों को एकजुट किया था। बाद के शासकों के अधीन, साम्राज्य ने अपने क्षेत्र का विस्तार किया और धन और शक्ति में वृद्धि की। साम्राज्य 12वीं शताब्दी में जयवर्मन सप्तम के शासन में अपने चरमोत्कर्ष पर पहुंच गया, जिसने कई प्रभावशाली मंदिरों और स्मारकों का निर्माण किया जो आज भी खड़े हैं।

खमेर साम्राज्य अपनी परिष्कृत सिंचाई प्रणालियों के लिए जाना जाता था, जिसने किसानों को मेकांग और टोनले सैप नदियों के उपजाऊ बाढ़ के मैदानों में चावल की खेती करने की अनुमति दी थी। इस कृषि प्रचुरता ने साम्राज्य को एक बड़ी आबादी का समर्थन करने की अनुमति दी, जिसने बदले में एक समृद्ध संस्कृति के साथ एक जटिल समाज के विकास की अनुमति दी।

हालाँकि, आंतरिक संघर्षों, बाहरी आक्रमणों और पर्यावरणीय परिवर्तनों सहित कारकों के संयोजन के कारण 13 वीं शताब्दी में खमेर साम्राज्य का पतन शुरू हो गया था। अंततः अंगकोर की राजधानी को छोड़ दिया गया, और खमेर लोग पूरे क्षेत्र में फैल गए।

महेंद्रपर्वत की खोज

महेंद्रपर्वत खमेर साम्राज्य द्वारा निर्मित कई शहरों में से एक था, लेकिन यह सदियों से इतिहास में खो गया था। हालाँकि, 2012 में, ऑस्ट्रेलिया और कंबोडिया के पुरातत्वविदों की एक टीम ने उन्नत हवाई मानचित्रण तकनीकों का उपयोग करके खोए हुए शहर की खोज की।

महेंद्रपर्वत उत्तरी कंबोडिया में नोम कुलेन पर्वत श्रृंखला में स्थित है, और यह संभवतः खमेर साम्राज्य का एक प्रमुख धार्मिक और प्रशासनिक केंद्र था। माना जाता है कि यह शहर 9वीं शताब्दी में खमेर साम्राज्य की स्थापना के समय के आसपास बनाया गया था।

शहर नहरों और जलाशयों की एक श्रृंखला से घिरा हुआ है, जिनका उपयोग सिंचाई और बाढ़ को नियंत्रित करने के लिए किया जाता था। शहर खुद एक पहाड़ी की चोटी पर बनाया गया था और संभवतः पुजारियों, प्रशासकों और कारीगरों की एक बड़ी आबादी का घर था।

खमेर साम्राज्य के बारे में महेंद्रपर्वत हमें क्या सिखा सकता है?

महेंद्रपर्वत की खोज ने खमेर साम्राज्य और उसके जटिल समाज के इतिहास पर नई रोशनी डाली है। पहाड़ों में शहर की रणनीतिक स्थिति बताती है कि इसने साम्राज्य के राजनीतिक और धार्मिक मामलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

शहर की प्रभावशाली जल प्रबंधन प्रणाली खमेर साम्राज्य के इंजीनियरिंग और कृषि के उन्नत ज्ञान को भी उजागर करती है। साम्राज्य की परिष्कृत सिंचाई प्रणाली ने इसे एक बड़ी आबादी का समर्थन करने और प्रभावशाली शहरों और स्मारकों का निर्माण करने की अनुमति दी।

इसके अलावा, महेंद्रपर्वत की खोज ने खमेर साम्राज्य के पतन के बारे में महत्वपूर्ण प्रश्न उठाए हैं। 14वीं शताब्दी में शहर को छोड़ दिया गया था, लगभग उसी समय जब साम्राज्य का पतन शुरू हुआ था। साम्राज्य के पतन के कारणों को अभी भी पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है, लेकिन महेंद्रपर्वत की खोज से नए सुराग मिलते हैं जो इतिहासकारों को इस रहस्य को उजागर करने में मदद कर सकते हैं।

निष्कर्ष

अंत में, महेंद्रपर्वत की खोज ने खमेर साम्राज्य के इतिहास में बहुमूल्य अंतर्दृष्टि प्रदान की है। कभी सत्ता और संस्कृति का फलता-फूलता केंद्र रहा यह खोया हुआ शहर सदियों तक दुनिया से छिपा रहा। नई तकनीक और पुरातात्विक तकनीकों के उपयोग के लिए धन्यवाद, शोधकर्ता शहर के खंडहरों को उजागर करने और इसकी कहानी को एक साथ जोड़ने में सक्षम थे। महेंद्रपर्वत ने खमेर लोगों की आर्थिक, सामाजिक और धार्मिक प्रथाओं के साथ-साथ शहर के पतन और अंततः परित्याग के बारे में बहुत कुछ प्रकट किया है।

जैसा कि हम खमेर साम्राज्य के अवशेषों का पता लगाना जारी रखते हैं, महेंद्रपर्वत के महत्व को याद रखना महत्वपूर्ण है। शहर की खोज ने अनुसंधान के नए रास्ते खोल दिए हैं और हमें इस एक बार की महान सभ्यता की गहरी समझ हासिल करने की अनुमति दी है। हालाँकि, यह मानव उपलब्धियों की नाजुकता और आने वाली पीढ़ियों के लिए हमारी सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने के महत्व की याद दिलाता है। महेंद्रपर्वत का खोया हुआ शहर खमेर लोगों की अविश्वसनीय उपलब्धियों का एक वसीयतनामा है, और इसकी पुनर्खोज आधुनिक पुरातत्व की एक उल्लेखनीय उपलब्धि है।


स्त्रोत

  • Chandler, D. P. (2000). A history of Cambodia. Westview Press.
  • Higham, C. (2014). Early Mainland Southeast Asia. River Books.
  • Evans, D., Fletcher, R., Pottier, C., Chevance, J. B., Soutif, D., Tan, B. S., … & Barbetti, M. (2013). Uncovering archaeological landscapes at Angkor using LiDAR. Proceedings of the National Academy of Sciences, 110(31), 12595-12600.
  • Bong, R., Fletcher, R., Cromarty, C., O’Reilly, D., Innes, J., Vuthy, S., & Soutif, D. (2016). Discovery of Mahendraparvata, a lost city of Cambodia. Antiquity, 90(352), 1632-1657.
  • Groslier, B. P. (1979). Indochina: An introduction to the art of ancient civilizations. Weatherhill.
  • Higham, C. (2003). The civilization of Angkor. University of California Press.
  • Coedès, G. (1963). The Indianized states of Southeast Asia. The University of Hawaii Press.

Editorial Team
Unrevealed Files के संपादकों, परामर्श संपादकों, मध्यस्थों, अनुवादक और सामग्री लेखकों की टीम। वे सभी सामग्रियों का प्रबंधन और संपादन करते हैं।

Leave a reply

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें