बुधवार, फ़रवरी 1, 2023
होम पृथ्वी विज्ञान

पृथ्वी विज्ञान

पृथ्वी विज्ञान: पृथ्वी की वर्तमान विशेषताओं और पिछले विकास को समझने के व्यापक उद्देश्य के साथ ठोस पृथ्वी और भूगर्भिक, जल विज्ञान और वायुमंडलीय विज्ञान के विषय पर लेख।

सूर्यकेंद्रित मॉडल

सदियों से महान खगोलविदों ने दावा किया है कि पृथ्वी सूर्य...

कोपरनिकस पहले व्यक्ति नहीं थे जिन्होंने दावा किया था कि पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती है। जानिए कैसे महान खगोलविदों और गणितज्ञों ने सदियों से भविष्यवाणी की और समझाया कि कैसे पृथ्वी सूर्य के चारों ओर घूमती है।
एक कलात्मक चित्रण, चावल के खेतों में कृत्रिम रसायनों और कीटनाशकों का छिड़काव करते किसान

पर्यावरण में कृत्रिम रसायनों और प्रदूषकों ने ग्रह की सुरक्षित सीमा...

एक नए अध्ययन से पता चलता है कि पर्यावरण में तेजी से बढ़ रहे कृत्रिम रसायन और प्रदूषक ग्रह की सुरक्षित सीमा से अधिक हो गए हैं और पृथ्वी और मानवता के लिए एक गंभीर खतरा पैदा कर रहे हैं।
एक हवाई जहाज और मानव रहित जहाज बादलों को उत्पन्न कर रहें हैं जो सूर्य के प्रकाश को पृथ्वी से दूर परावर्तित करेंगे।

जियोइंजीनियरिंग: जलवायु परिवर्तन से बचाव या अज्ञात जलवायु जोखिम

जियोइंजीनियरिंग जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को रोकने के लिए पृथ्वी की प्राकृतिक प्रक्रियाओं में एक जानबूझकर हस्तक्षेप है। लेकिन क्या यह जलवायु परिवर्तन या अज्ञात जलवायु जोखिम से बचाव है?
Ham Apne Grah Ki Behtar Seva Kar Sakte Hain

क्या हम अपने ग्रह की बेहतर सेवा कर सकते हैं?

वैज्ञानिक अध्ययन से हमें यह चेतावनी मिली है कि ग्रह संघर्ष कर रहा है, कि हमने अपनी जीवित दुनिया को भौतिक सीमाओं से परे धकेल दिया है।
Water Scarcity

स्वच्छ जल का अभाव, मानव जाति के लिए एक गंभीर समस्या।

स्वच्छ जल का अभाव आज मानवता के लिए एक गंभीर समस्या बन गया है, जिसके कारण लोगों के लिए स्वच्छ पानी एक विलासिता की तरह हो गया है।
लंदन का वह भयानक स्मॉग

London का वह भयावह smog.

London का वह smog जिसने 12000 लोगों को मारा और smog के बनने के कारण को पता लगाने में वैज्ञानिकों को लगभग 64 वर्ष का समय लगा।
उद्योग प्रदूषण

मेल्टडाउन: जलवायु परिवर्तन को प्रबंधित करने की आवश्यकता

'जलवायु परिवर्तन को प्रबंधित करने की आवश्यकता' में हम जलवायु परिवर्तन और घटती जीवाश्म ईंधन भंडार का प्रबंधन करने की आवश्यकता के बारे में जानेंगे।

लोकप्रिय