धूमकेतु वाइल्ड 2 पर स्टारडस्ट का एक कलात्मक चित्रण
चित्र 1: धूमकेतु वाइल्ड 2 पर स्टारडस्ट का एक कलात्मक चित्रण | यह नासा द्वारा 7 फरवरी 1999 को लॉन्च किया गया 390 किलोग्राम का रोबोटिक स्पेस प्रोब है। इसका मुख्य मिशन धूमकेतु वाइल्ड 2 के कोमा से धूल के नमूने एकत्र करना था, साथ ही कॉस्मिक डस्ट के नमूने भी थे और विश्लेषण के लिए इन्हें वापस धरती पर लाना था।

स्टारडस्ट मिशन 1999 में नासा द्वारा शुरू किया गया एक अभूतपूर्व अंतरिक्ष अन्वेषण मिशन था। इस मिशन का उद्देश्य धूमकेतु और इंटरस्टेलर धूल से नमूने एकत्र करना और वापस करना था, जिससे वैज्ञानिक हमारे सौर मंडल के गठन का अध्ययन कर सकें। मिशन को नासा द्वारा किए गए अब तक के सबसे चुनौतीपूर्ण मिशनों में से एक माना गया था और इसके लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए नवीन प्रौद्योगिकी और टीम वर्क की आवश्यकता थी। इस लेख में, हम स्टारडस्ट मिशन के बारे में विस्तार से जानेंगे, जिसमें इसके उद्देश्य, चुनौतियाँ और उपलब्धियाँ शामिल हैं।

स्टारडस्ट मिशन के उद्देश्य

स्टारडस्ट मिशन का प्राथमिक उद्देश्य धूमकेतु वाइल्ड 2 से नमूने एकत्र करना और वापस करना था। वाइल्ड 2 को इसलिए चुना गया क्योंकि यह एक छोटी अवधि का धूमकेतु है जो हर 6.4 साल में एक बार सूर्य की परिक्रमा करता है, जिससे लक्ष्य बनाना और अध्ययन करना आसान हो जाता है। मिशन को इंटरस्टेलर धूल इकट्ठा करने के लिए भी डिजाइन किया गया था, जिसे हमारे सौर मंडल के गठन से अवशेष माना जाता है। मिशन का उद्देश्य धूमकेतु और इंटरस्टेलर धूल दोनों के नमूने एकत्र करना था, जो वैज्ञानिकों को हमारे सौर मंडल के गठन का अध्ययन करने का एक दुर्लभ अवसर प्रदान करेगा।

स्टारडस्ट मिशन द्वारा सामना की जाने वाली चुनौतियाँ

स्टारडस्ट मिशन एक जटिल और चुनौतीपूर्ण मिशन था, जिसे अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए नवीन प्रौद्योगिकी और टीम वर्क की आवश्यकता थी। मिशन के सामने सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक धूमकेतु से नमूने एकत्र करना था। ऐसा करने के लिए, मिशन ने सैंपल रिटर्न कैप्सूल (SRC) नामक एक उपकरण का उपयोग किया, जिसे धूमकेतु से कणों को पकड़ने और उन्हें वापस पृथ्वी पर लाने के लिए डिज़ाइन किया गया था। SRC को उच्च तापमान और विकिरण सहित अंतरिक्ष की चरम स्थितियों का सामना करना पड़ा और कणों को नुकसान पहुँचाए बिना उन्हें पकड़ने के लिए पर्याप्त सटीक होना पड़ा।

मिशन के सामने एक और बड़ी चुनौती पृथ्वी और वाइल्ड 2 के बीच की दूरी थी। धूमकेतु कुइपर बेल्ट में स्थित है, जो नेपच्यून की कक्षा से परे है, जिससे इस तक पहुंचना मुश्किल हो जाता है। मिशन को धूमकेतु तक पहुंचने और नमूने एकत्र करने के लिए गुरुत्वाकर्षण सहायता और सटीक लक्ष्यीकरण सहित नवीन तकनीकों का उपयोग करना था।

स्टारडस्ट मिशन की उपलब्धियां

मिशन द्वारा सामना की गई चुनौतियों के बावजूद, स्टारडस्ट मिशन एक शानदार सफलता थी। मिशन 2006 में पृथ्वी पर लौटा, धूमकेतु और इंटरस्टेलर धूल दोनों के नमूने वापस लाया। नमूने एसआरसी में एकत्र किए गए थे, जो अंतरिक्ष यान से छोड़ा गया था और यूटा रेगिस्तान में उतरा था। नमूने फिर ह्यूस्टन, टेक्सास में जॉनसन स्पेस सेंटर भेजे गए, जहां उनका विश्लेषण दुनिया भर के वैज्ञानिकों द्वारा किया गया।

स्टारडस्ट मिशन द्वारा एकत्र किए गए नमूनों ने वैज्ञानिकों को हमारे सौर मंडल के गठन के बारे में बहुत सारी जानकारी प्रदान की है। नमूनों ने कार्बनिक यौगिकों की उपस्थिति का खुलासा किया है, जिसमें ग्लाइसिन और अन्य अमीनो एसिड शामिल हैं, जो जीवन के निर्माण खंड हैं। नमूनों ने उन खनिजों की उपस्थिति का भी खुलासा किया है जो केवल उच्च तापमान वाले वातावरण में पाए जाते हैं, यह सुझाव देते हुए कि धूमकेतु बाहरी सौर मंडल में निकाले जाने से पहले सूर्य के करीब बना था।

निष्कर्ष

स्टारडस्ट मिशन एक अभूतपूर्व अंतरिक्ष अन्वेषण मिशन था जिसने धूमकेतु और इंटरस्टेलर धूल से नमूने एकत्र करने और वापस करने के अपने लक्ष्यों को प्राप्त किया। मिशन को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिसमें पृथ्वी और धूमकेतु के बीच की दूरी और नमूनों का संग्रह शामिल है। हालाँकि, मिशन एक शानदार सफलता थी, और एकत्र किए गए नमूनों ने वैज्ञानिकों को हमारे सौर मंडल के निर्माण के बारे में जानकारी प्रदान की है। स्टारडस्ट मिशन नवीन प्रौद्योगिकी और टीम वर्क का एक वसीयतनामा है जो अंतरिक्ष अन्वेषण में सफलता प्राप्त करने के लिए आवश्यक है।


स्त्रोत

  1. NASA’s official website: https://www.nasa.gov/mission_pages/stardust/main/index.html
  2. The Stardust mission page on the Jet Propulsion Laboratory (JPL) website: https://www.jpl.nasa.gov/missions/stardust/
  3. The Stardust Mission Analysis and Operations Team Final Report: https://ntrs.nasa.gov/archive/nasa/casi.ntrs.nasa.gov/20100035790.pdf
  4. A review article on the Stardust mission published in the journal “Meteoritics & Planetary Science”: https://onlinelibrary.wiley.com/doi/abs/10.1111/maps.12612
  5. The book “Stardust: The Cosmic Seeds of Life” by John S. Lewis, provides an in-depth look at the mission and its scientific significance.

Editorial Team
Unrevealed Files के संपादकों, परामर्श संपादकों, मध्यस्थों, अनुवादक और सामग्री लेखकों की टीम। वे सभी सामग्रियों का प्रबंधन और संपादन करते हैं।

Leave a reply

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें