एक रॉकेट लॉन्च, इसके निकास द्वारा लगातार त्वरित।
चित्र 1: एक रॉकेट लॉन्च, इसके निकास द्वारा लगातार तेज, किसी भी दूरी पर बैलिस्टिक एस्केप वेग तक पहुंचने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इसकी प्रतिक्रिया द्रव्यमान के निष्कासन द्वारा अतिरिक्त गतिज ऊर्जा के साथ आपूर्ति की जाती है। यह किसी भी गति से भागने को प्राप्त कर सकता है, भागने के लिए वस्तु पर त्वरित बल प्रदान करने के लिए एक उपयुक्त मोड प्रणोदन और पर्याप्त प्रणोदक दिया जाता है।

Escape velocity की परिभाषा

भौतिकी में पलायन वेग यानि Escape velocity एक विशाल शरीर के गुरुत्वाकर्षण प्रभाव से बचने के लिए एक स्वतंत्र, गैर-प्रोपेल्ड ऑब्जेक्ट के लिए आवश्यक न्यूनतम गति है। पृथ्वी या किसी भी गृह के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र से बचने के लिए आवश्यक अधिकतम वेग यानि velocity को पलायन वेग के रूप में जाना जाता है।

पृथ्वी या किसी भी गृह के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र से बचने के लिए आवश्यक अधिकतम वेग यानि velocity को पलायन वेग के रूप में जाना जाता है।

पलायन वेग यानि Escape velocity केवल एक प्रक्षेपवक्र(a trajectory ) पर एक बैलिस्टिक वस्तु भेजने के लिए आवश्यक है जो वस्तु को द्रव्यमान के गुरुत्वाकर्षण से बचने की अनुमति देता है। इसके आलावा गुरुत्वाकर्षण से बाहर जाने के लिए किसी भी रॉकेट या अंतरिक्षयान को अपने अधिकतम acceleration को पाने के लिए mode of propulsion और sufficient propellant यानि fuel की भी आवशयकता होती है।

Escape velocity का formula

किसी भी गोलाकार तारा, या ग्रह, किसी दूरी पर उस शरीर के लिए पलायन वेग यानि Escape velocity, इस सूत्र द्वारा गणना की जाती है।

Escapevelocityformula

OR

Escape velocity formula

Escape velocity (एस्केप वेलोसिटी) अंडर-रूट 2 गुणा सार्वभौमिक गुरुत्वाकर्षण कांस्टेंट और शरीर के द्रव्यमान भाग शरीर के द्रव्यमान के केंद्र से वस्तु तक दूरी।

Escape velocity (एस्केप वेलोसिटी) चिह्नित किया जाता है –

{\displaystyle v_{e},}
Escape velocity

यहाँ ‘G’ सार्वभौमिक गुरुत्वाकर्षण स्थिरांक है और जिसका मान है – G × 6.67 × 10 ’11 m3 · kg − 1 · s, 2,

‘M’ शरीर का वह द्रव्यमान है, जिससे भाग लिया जा सकता है, और ‘r’ शरीर के द्रव्यमान के केंद्र से वस्तु तक की दूरी है।

Advertisement, continue reading

संबंध बड़े वस्तु के पैमाने पर शरीर से बचने वाली वस्तु के द्रव्यमान से स्वतंत्र है। इसके विपरीत, एक शरीर जो कि बड़े पैमाने पर M के गुरुत्वाकर्षण आकर्षण के बल पर गिरता है, अनंत से, शून्य वेग से शुरू होता है, एक ही सूत्र द्वारा दिए गए उसके भागने के वेग के बराबर वेग के साथ बड़े पैमाने पर ऑब्जेक्ट से टकराएगा।

जब प्रारंभिक गति ‘V’ एस्केप वेलोसिटी से अधिक होती है तो ऑब्जेक्ट एसिम्पोटिक रूप से हाइपरबोलिक अतिरिक्त गति या अनंत गति से संपर्क करेगा। जिसमे वायुमंडलीय घर्षण (एयर ड्रैग) को ध्यान में नहीं रखा जाता है। फिर समीकरण होगा –

जब प्रारंभिक गति 'V' एस्केप वेलोसिटी से अधिक होती है तो ऑब्जेक्ट एसिम्पोटिक रूप से हाइपरबोलिक अतिरिक्त गति या अनंत गति से संपर्क करेगा। जिसमे वायुमंडलीय घर्षण (एयर ड्रैग) को ध्यान में नहीं रखा जाता है। फिर समीकरण होगा -

वीडियो स्पष्टीकरण


EduPoint: Escape Velocity explained in Hindi.

इस लेख के प्रकाशन की तिथि: 13 सितम्बर, 2019 और अंतिम संशोधित(modified) तिथि: 31 अक्टूबर, 2020

लेख पर टिप्पणी करें