Carl Edward Sagan Biography in Hindi

Biography Of Carl Edward Sagan

Astronomer, Carl Sagan

Carl Edward Sagan का जन्म Brooklyn, New York में 9 नवंबर 1934 को हुआ था। Carl यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो से ग्रेजुएट हुए जहां उन्होंने ग्रहों का विज्ञान और extra-terrestrial intelligence पर अध्ययन किया। 1968 में वे Cornell Loboratory के director भी बने और नासा के बहुत से प्रोजेक्ट्स में काम किया। परमाणु विरोधी Carl Sagan, 1983 में Nuclear Winter के विचार को दुनिया के सामने रखा, उन्होंने अपने कुछ सहयोगियों के साथ मिलकर कंप्यूटर मॉडल की सहायता से हमें यह बताया कि किस तरह Nuclear Winter मानव जाति के विनाश का कारण बन सकता है।

Carl Sagan ने अंतरिक्ष में भेजे गए भौतिक संदेश Pioneer Plaque और Voyager Golden Record को assemble किया था। जिन्हें नासा के Pioneer और Voyager Spacecraft में लगाकर space में भेजा गया ताकि यह संदेश उस सभ्यता को मिल सके जहाँ भविष्य में कभी यह Spacecraft पहुँचेंगे। Carl एक लेखक भी थे, उन्होंने एक उपन्यास कई किताबें और एकेडमिक पेपर्स लिखें हैं, और अवॉर्ड विनिंग टीवी सीरीज Cosmos: a personal Voyage के नैरेटर और लेखक भी थे, जो 1970 और 1980 के दशक में सबसे प्रसिद्ध वैज्ञानिक बने।


प्रारंभिक जीवन

9 नवंबर 1934 को Brooklyn, New York में जन्मे Carl Sagan खगोल विज्ञान में बचपन से ही रुचि रखते थे। उनके माता-पिता को यह बात तब पता चला जब Carl पाँच वर्ष के थे। Samuel Sagan जो कि एक टेलर थे Carl के पिता थे और रिचेल मौली ग्रूबर काल की माता थीं। Carl कहते थे कि उनके अंदर सेंस ऑफ वंडर उनके पिता से आई, “एक लेखक और वैज्ञानिक के रूप में अपने बाद के वर्षों में Carl अक्सर वैज्ञानिक बिंदुओं को चित्रित करने के लिए अपने बचपन की यादों को आकर्षित करते हैं और अपनी सोच पर माता-पिता के प्रभावों का वर्णन करते हैं

यह 1939 का वक्त था जब काल 4 वर्ष के थे उनके माता-पिता उन्हें न्यूयॉर्क वर्ल्ड फेयर में ले गए, Carl कहते हैं कि, “उनके जीवन का वह समय सबसे अधिक परिभाषित क्षणों में से एक था जो उनके जीवन का एक महत्वपूर्ण मोड़ बन गया” न्यूयॉर्क वर्ल्ड फेयर में उन्होंने भविष्य के अनेक विज्ञान और तकनीक देखें जिसमे Time Capsule भी था, डेविडसन लिखते हैं कि टाइम मशीन के विचार ने Carl को रोमांचित कर दिया, एक व्यस्त के रूप में Carl और उसके सहकर्मी इसी तरह के capsule बनाएंगे,capsule जो आकाशगंगा में भेजे जाएंगे।

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान Carl का परिवार अपने यूरोपीय रिश्तेदारों की चिंता किया करते थे। हाँलांकि Carl आमतौर पर चल रहे युद्ध से अनजान थे, लेकिन वह समय द्वितीय विश्व युद्ध के कारण एक कठिन समय था। Carl ने अपनी पुस्तक The Demon-Haunted World: Science as a Candle in the Dark में उस संघर्षपूर्ण अवधि की अपनी यादों को शामिल किया है, लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध के कारण उनके जिज्ञासु विचारों पर कभी नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ा।

शिक्षा

प्राथमिक विश्वविद्यालय में प्रवेश करने के तुरंत बाद उन्होंने प्रकृति के बारे में एक मजबूत जिज्ञासा व्यक्त करना शुरू कर दिया काल ने 5 वर्ष की उम्र से ही अकेले पब्लिक लाइब्रेरी में जाना शुरू कर दिया था, क्योंकि उन्हें जानना था कि “stars” क्या होते हैं? उस समय उनका कोई भी दोस्त उनके माता-पिता या उनके शिक्षक उन्हें स्पष्ट जवाब नहीं देते थे। Carl कहा करते थे,
“मैं जब लाइब्रेरियन के पास गया और सितारों के बारे में एक किताब मांगी तो जवाब आश्चर्यजनक था कि, सूर्य एक तारा था जो कि हमारे इतने करीब था तारे सूरज ही थे लेकिन अभी तक वह केवल प्रकाश के छोटे बिंदु थे , ब्रह्मांड का यह विशालता अचानक मेरे लिए खुल गया यह एक तरह का धार्मिक अनुभव था उसमें एक भव्यता थी जिसने मुझे कभी नहीं छोड़ा “

लगभग 6 या 7 साल की उम्र में Carl Sagan और उनके एक मित्र Manhattan के पूर्वी नदी के पार अमेरिकन म्यूजियम के प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय में गए, वहां वे हेडन तारामंडल में गए और संग्रहालय के अंतरिक्ष वस्तुओं जैसे कि उल्कापिंड प्राकृतिक सेटिंग्स में डायनासोर और जानवरों के प्रदर्शनों के आसपास चले गए। Carl उन यात्राओं को भी अपने जीवन में परिवर्तन मानते हैं।

Carl के माता-पिता विज्ञान में उनकी बढ़ती रुचि को देख पढ़ाई-लिखाई में उनका पूरा सहयोग करते थे। HG Wells और Edgar Rice Burroughs जैसे लेखकों के विज्ञान कहानियों को पढ़ने के बाद मंगल जैसे अन्य ग्रहों पर जीवन के बारे में उनकी कल्पना और मजबूत हुई और जल्द ही वे Science fiction कहानियों और extra-terrestrial जीवन के प्रशंसक बन गए।

1947 में कॉल Boody Junior High School में पढ़ा करते थे, तब वे 13 वर्ष के थे लेकिन जल्द ही उनके पिता के नौकरी के कारण उनके परिवार को न्यूजर्सी जाना पड़ा जहां उन्होंने Rahway High School में अपनी हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी की। Carl Sagan एक extraordinary छात्र थे, यह बात उनके टीचर्स जानते थे इसलिए उनके टीचर्स Carl Sagan के माता-पिता को अक्सर यह कहते थे, कि Carl को प्राइवेट स्कूल में पढ़ाएं लेकिन पैसों की कमी के कारण उनके माता-पिता उन्हें प्राइवेट स्कूल में नहीं पढ़ा पाए।

Carl केमिस्ट्री में बहुत अच्छे थे अपने घर में उन्होंने अपना खुद का केमिस्ट्री लैबोरेट्री भी बना रखा था, जहां वे Molecules और Molecules के Structure पर अध्ययन किया करते थे। उस समय Carl ज्यादातर शौक के रूप में खगोल विज्ञान में रुचि रखते थे, लेकिन जैसे-जैसे वे Astronomy के बारे में जानते गए उन्होंने Astronomy को अपना करियर गोल बना लिया।
Carl Sagan ने 1951 में 16 साल की उम्र में ही अपनी हाईस्कूल की उपाधि प्राप्त की और शिकागो विश्वविद्यालय चले आए जहाँ उन्होंने H. J. Muller के Laboratory में फिजिकल केमिस्ट Harold Urey के साथ मिलकर origins of life पर एक thesis लिखा और Alien Life की संभावना पर अपना आकर्षण बढ़ाया।

वैज्ञानिक करियर

1955 में Carl, Physics में B.A के साथ बैचलर और मास्टर डिग्री प्राप्त किए और फिर 4 साल बाद Astronomy और Astrophysics में पीएचडी प्राप्त करने के बाद कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय चले गए जहां उन्होंने NASA के Meriner-2 Robotic probe में infared Radiometer विकसित करने में सहायता किया। 1960 के दशक में उन्होंने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और स्मिथसोनियन एस्ट्रोफिजिकल ऑब्जर्वेटरी में काम किया उनका प्रारंभिक कार्य ग्रहों की भौतिक स्थितियों पर केंद्रित था विशेषकर Venus और Jupiter के वायुमंडल में। उस समय के दौरान Carl पृथ्वी से परे जीवन की संभावना और extra-terrestrial इंटेलिजेंस की खोज में रुचि रखने लगे उस समय extra-terrestrial इंटेलिजेंस एक विवादित शोध क्षेत्र था जिसे Carl Sagan ने बहुत आगे बढ़ाया।

1968 में Carl Cornell विश्वविद्यालय के प्रयोगशाला में ग्रहों के अध्ययन के लिए डायरेक्टर नियुक्त किए गए और 3 साल बाद वे प्रोफेसर भी बने। Nasa के साथ फिर से काम करते हुए Carl ने यह निश्चय करने में मदद की, कि Viking Probe मंगल पर कहाँ तक पहुंचेगा और पृथ्वी से उन संदेशों को तैयार करने में भी मदद किया जो हमारे सौरमंडल से परे Pioneer और Voyeger Spacecraft द्वारा भेजे गए।
अपने तीस के दशक में Carl Sagan ऐसे मुद्दों पर बोलना शुरू किया, जो उनका ध्यान बहुत आकर्षित करते थे। जैसे कि Interstellar Flight और यह विचार कि हम हजारों साल पहले Aliens पृथ्वी पर आए थे। उन्होंने UFO के बारे में भी बताया। वह समय ऐसा समय था जब ये सभी बातें आम लोगों के लिए दिलचस्प खबरें हुआ करती थी।

1968 में जब वे वैज्ञानिक क्षेत्र में एक जाने-माने व्यक्ति थे, उन्होंने Stanley Kubrick के फिल्म 2001: A Space Odessy में काम किया। और 1970 और 1980 के दशक में संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे प्रसिद्ध वैज्ञानिक थे। जिनके Cosmic Connection an extra-terrestrial perspective (1973), Other World (1975), The Dragons of Eden: Speculations on the Evolution of Human Intelligence (1977) और उनके नावेल Contact इत्यादि सभी ने वैज्ञानिक समुदाय और सामान्य दर्शकों का ध्यान आकर्षित किया।

1980 में Carl Sagan प्लेनेटरी सोसायटी का सह-स्थापना किया और बेहद प्रभावशाली टीवी सीरीज “Cosmos: A personal Voyage” जिसे उन्होंने लिखा और होस्ट किया था, एक अवॉर्ड विनिंग टीवी सीरीज बना। जिसने विज्ञान में लोगों की रुचि को और बढ़ा दिया बाद में उन्होंने इस पर एक किताब भी लिखी। उनके अन्य प्रसिद्ध कार्य में से एक Pale Blue Dot: A Vision of the Human future in Space (1994) Cosmos की अगली Sequel थी, जो की प्रसिद्ध “Pale Blue Dot” फोटोग्राफ से लिया गया था,Voyager मिशन के दौरान।

1981 में Carl Sagan अपने राजनीतिक लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए एक सेलिब्रिटी और वैज्ञानिक के रूप में अपनी स्थिति का उपयोग करते हुए परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए एक अभियान चलाया, और राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन की रणनीति रक्षा पहल के एक विरोधी बने।

1983 में उन्होंने परमाणु युद्ध से होने वाले Nuclear Winter को दुनिया के सामने रखा, और अगले वर्ष ही उन्होंने The Cold and the Dark: The World After Nuclear War के सह लेखक बने Carl Sagan के करियर के दौरान उन्हें कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया विशेष रूप से Nasa के विशिष्ठ लोक सेवा पदक नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेस के लोक कल्याण पदक और जॉन एफ कैनेडी एस्ट्रोनॉटिक्स अवॉर्ड। काल अपने करियर पर बहुत ध्यान दिया करते थे शायद यही कारण था उनका दो बार तलाक हुआ था। 1961 में Carl Sagan ने लेखक एंड्रयू यान से शादी की और वे दो हमेशा एक साथ रहे।


मृत्यु –

2 साल तक Myclodysplasia से पीड़ित रहने के बाद फिर तीन बार Bone Marrow ट्रांसप्लांट के बाद 62 वर्ष की उम्र में निमोनिया होने से उनकी मृत्यु हो गई। मृत्यु के बाद भी वे विज्ञान में एक प्रसिद्ध और लोकप्रिय वैज्ञानिक बने हुए हैं।